Deewana Har Shakhs Ko

Deewana Har Shakhs Ko

Deewana Har Shakhs Ko Bana Deta Hai Ishq,
Sair Jannat Ki Kara Deta Hai Ishq,
Mareej Ho Agar Dil Ke To Kar Lo Ishq,
Kyuki Dhadkana Dilo Ko Sikha Deta Hai Ishq.

दिवाना हर शख़्स को बना देता है इश्क़,
सैर जन्नत की करा देता है इश्क़,
मरीज हो अगर दिल के तो कर लो इश्क़,
क्योंकि धड़कना दिलों को सिखा देता है इश्क़।

Deewana Har Shakhs - Ishq Hindi Shayari

Wo Mujh Tak Aane Ki Raah Chahta Hai,
Lekin Meri Mohabbat Ka Gawaah Chahta Hai,
Khud Aate Jaate Mausmo Ki Tarah Hai,
Aur Mere Ishq Ki Inteha Chahata Hai.

वो मुझ तक आने की राह चाहता है,
लेकिन मेरी मोहब्बत का गवाह चाहता है,
खुद आते जाते मौसमो की तरह है,
और मेरे इश्क़ की इंतेहा चाहता है।

Ishq Wahi Hai Jo Ho Ek Tarfaa,
Izahaar-Ai-Ishq To Khwahish Ban Jati Hai,
Hai Agar Mohabbat To Aankhon Mein Padh Lo,
Zubaan Se Izahaar To Numaish Ban Jaati Hai.

इश्क़ वही है जो हो एक तरफा,
इज़हार-ऐ-इश्क़ तो ख्वाहिश बन जाती है,
है अगर मोहब्बत तो आँखों में पढ़ लो,
ज़ुबान से इज़हार तो नुमाइश बन जाती है।

Leave a Comment