Dekha Hai Zindagi Ko

Dekha Hai Zindagi Ko

Dekha Hai Zindagi Ko Kuchh Itna Kareeb Se,
Chehre Tamaam Lagne Lage Hain Ab To Ajeeb Se.

देखा है ज़िन्दगी को कुछ इतना करीब से,
चेहरे तमाम लगने लगे हैं अब तो अजीब से।

Udasiyon Ki Bajah To Bahut Sari Hain Zindagi Me,
Par Bevajah Khush Rahne Ka Maza Hi Kuchh Aur Hai.

उदासियों की वजह तो बहुत सारी हैं ज़िन्दगी में,
पर बेवजह खुश रहने का मज़ा ही कुछ और है।

Kabhi Aankhon Pe Kabhi Sar Pe Bithae Rakhna,
Zindagi Kadabi Sahi Dil Se Lagaye Rakhana.

कभी आँखों पे कभी सर पे बिठाए रखना,
ज़िंदगी कड़बी सही दिल से लगाए रखना।

Kabhi Khole To Kabhi Zulf Ko Bikhraye Hai,
Zindagi Shaam Hai Aur Shaam Dhali Jaye Hai.

कभी खोले तो कभी ज़ुल्फ़ को बिखराए है,
ज़िंदगी शाम है और शाम ढली जाए है।

Leave a Comment