Dil Agar BeNaqaab Hota

Dil Agar BeNaqaab Hota

Kisi Ke Dil Me Kya Chhupa Hai,
Ye Bas Khuda Hi Janta Hai.
Dil Agar Be-Naqaab Hota,
To Socho Kitna Fasaad Hota.

किसी के दिल में क्या छुपा है,
ये बस खुदा ही जानता है,
दिल अगर बे-नकाब होता,
तो सोचो कितना फसाद होता।

Dil Agar Be-Naqab Hota - Dil Shayari

Dil Teri Yaad Me Aanhein Bharta Hai,
Milne Ko Pal Pal Tadapta Hai,
Mera Ye Sapna Toot Na Jaaye Kahin,
Bas Isi Baat Se Dil Darta Hai.

दिल तेरी याद में आहें भरता है।
मिलने को पल पल तड़पता है।
मेरा यह सपना टूट न जाये कहीं।
बस इसी बात से दिल डरता है।

Udas Hun Par Tujhse Naraj Nahi,
Tere Dil Me Hun Par Tere Pas Nahi,
Jhooth Kahun To Sab Kuchh Hai Mere Pas,
Aur Sach Kahun To Tere Siva Kuchh Nahi.

उदास हूँ पर तुझसे नाराज़ नहीं,
तेरे दिल में हूँ पर तेरे पास नहीं,
झूठ कहूँ तो सब कुछ है मेरे पास,
और सच कहूँ तो तेरे सिवा कुछ नहीं।

Leave a Comment