Dil Behlane Ka Zariya

Dil Behlane Ka Zariya

Shero-Shayari To Dil Behlane Ka Zariya Hai Saahab,
Lafz Kagaj Par Utarne Se Mahboob Nahi Lauta Karte.

शेरो-शायरी तो दिल बहलाने का ज़रिया है साहब,
लफ़्ज़ कागज पर उतारने से महबूब नहीं लौटा करते।

Meri Har Shayari Mere Dard Ko Karegi Banya Ai Gam,
Tumhari Aankh Na Bhar Jayen, Kahin Padhte Padhte.

मेरी हर शायरी मेरे दर्द को करेगी बंया ए गम
तुम्हारी आँख ना भर जाएँ, कहीं पढ़ते पढ़ते।

Tumhara Sirf Hawaon Pe Shaq Gaya Hoga,
Chiraag Khud Bhi To Jal-Jal Ke Thak Gaya Hoga.

तुम्हारा सिर्फ हवाओं पे शक़ गया होगा,
चिराग़ खुद भी तो जल-जल के थक गया होगा।

Kya Ab Bhei Tumko Charaagon Ki Jarurat Hai Ai Sanam,
Ham Aa Gaye Hai Apni Aankhon Me Wafa Ki Roshni Lekar.

क्या अब भी तुमको चरागों की जरुरत है ऐ सनम,
हम आ गए है अपनी आँखों में वफ़ा की रौशनी लेकर।

Hashr-Ai-Mohabbat Aur Anjaam Ab Khuda Jaane
Tujh Se Milkar Mit Jaana Hi Mera Wajood Tha.

हश्र-ऐ-मोहब्बत और अंजाम अब ख़ुदा जाने
तुझ से मिलकर मिट जाना ही मेरा वजूद था।

Leave a Comment