Dil Ek Hai To

Dil Ek Hai To

Dil Ek Hai To Kayi Baar Kyu Lagaya Jaye,
Bas Ek Ishq Hi Kafi Hai Agar Nibhaya Jaye.

दिल एक है तो कई बार क्यों लगाया जाए,
बस एक इश्क ही काफी है अगर निभाया जाए।

Wo Is Kamal Se Khele The Ishq Ki Baaji,
Main Apni Fatah Samajhta Raha Maat Hone Tak.

वो इस कमाल से खेले थे इश्क की बाजी,
मैं अपनी फतह समझता रहा मात होने तक।

Le Rahe The Mohabbat Ke Baazar Me Ishq Ki Chaadar,
Logo Ne Aawaaz Di Kafan Bhi Le Lo.

ले रहे थे मोहब्बत के बाज़ार में इश्क की चादर,
लोगो ने आवाज़ दी कफन भी ले लो।

Ishq Wo Khel Nahin Jo Chhote Dil Waale Khelen,
Rooh Tak Kaanp Jaati Hai, Sadme Sahate-Sahate.

इश्क वो खेल नहीं जो छोटे दिल वाले खेलें,
रूह तक काँप जाती है, सदमे सहते-सहते।

Leave a Comment