Dil Jaisi Ek Cheej Ko

Dil Jaisi Ek Cheej Ko

Kabhi Patthar Kaha Gaya To Kabhi Sheesha Kaha Gaya,
Dil Jaisi Ek Cheej Ko Kya Kya Kaha Gaya.

कभी पत्थर कहा गया तो कभी शीशा कहा गया,
दिल जैसी एक चीज को क्या क्या कहा जाए।

Bhra Hai Sheesha-E-Dil Ko Nayi Mohabbat Se,
Khuda Ka Ghar Tha Jahan Sharab-Khana Hua.

भरा है शीशा-ए-दिल को नई मोहब्बत से,
ख़ुदा का घर था जहाँ शराब-ख़ाना हुआ।

Bhool Shayad Bahut Badi Kar Li,
Dil Ne Duniya Se Dosti Kar Li.

भूल शायद बहुत बड़ी कर ली,
दिल ने दुनिया से दोस्ती कर ली।

Dar Gaya Hai Jee Kuchh Aisa Hijr Se,
Tum Jo Pahlu Se Uthe Dil Hil Gaya.

डर गया है जी कुछ ऐसा हिज्र (जुदाई) से,
तुम जो पहलू से उठे दिल हिल गया।

Dard Ho Dil Me To Dava Keeje,
Aur Jo Dil Hi Na Ho To Kya Keeje

दर्द हो दिल में तो दवा कीजे, 
और जो दिल ही न हो तो क्या कीजे।

Leave a Comment