Dil Ki Betabi

Dil Ki Betabi

Dil Ki Betaabi Intezar Shayari

Bhale Hi Raah Chalton Ka Daman Tham Le,
Magar Mere Pyar Ko Bhi Tu Pahchaan Le,
Kitna Intezar Kiya Hai Tere Intezar Me,
Jara Yeh Dil Ki Betabi Tu Bhi Jaan Le,

भले ही राह चलतों का दामन थाम ले,
मगर मेरे प्यार को भी तू पहचान ले,
कितना इंतज़ार किया है तेरे इश्क़ में,
ज़रा यह दिल की बेताबी तू भी जान ले।

Leave a Comment