Dost To Humare Lakhon

Dost To Humare Lakhon

Tu Dur Bhi Hai Mujhse Aur Paas Bhi Hai,
Mujhe Teri Kami Ka Ehsaas Bhi Hai,
Dost To Humare Lakhon Hain Iss Jahan Mein,
Par Tu Pyara Bhi Hai Aur Khaas Bhi Hai.

तू दूर भी है मुझसे और पास भी है,
मुझे तेरी कमी का एहसास भी है,
दोस्त तो हमारे लाखों हैं इस जहाँ में,
पर तू प्यारा भी है और खास भी है।

dosti shayari

Meri Dosti Ka Andaza Na Laga Paoge,
Khud Ko Bhool Jaoge, Magar Humko Na Bhool Paoge,
Ek Baar Humse Juda Hoker To Dekho,
Kasam Tumhe Humari Dosti Ki, Hamare Bagair Jeena Bhool Jaoge.

मेरी दोस्ती का अंदाज़ा न लगा पाओगे,
खुद को भूल जाओगे, मगर हमको न भूल पाओगे।
एक बार हमसे जुदा होकर तो देखो,
क़सम तुम्हें हमारी दोस्ती की, हमारे बगैर जीना भूल जाओगे।

Dosti Hoti Nahi Bhool Jaane Ke Liye,
Dost Milte Nahi Bikhar Jaane Ke Liye,
Dosti Karke Khush Rahoge Itna,
Ki Waqt Hi Nahi Milega Aansu Bahane Ke Liye.

दोस्ती होती नहीं, भूल जाने के लिए,
दोस्त मिलते नहीं, बिखर जाने के लिए,
दोस्ती करके खुश रहोगे इतना,
की वक़्त ही नहीं मिलेगा, आंसू बहाने के लिए।

Leave a Comment