Dosti Shayari, Dost Dil Ke Kareeb Rahenge

Dosti Shayari, Dost Dil Ke Kareeb Rahenge

Din Beet Jaate Hain Suhani Yaadein Bankar,
Baaten Rah Jaati Hain #Kisse Aur Kahani Bankar,
Par #Dost To Hamesha Dil Ke Kareeb Rahenge,
Kabhi Muskaan To Kabhi Aankhon Mein Paani Bankar.

दिन बीत जाते हैं सुहानी यादें बनकर,
बातें रह जाती हैं #किस्से और कहानी बनकर,
पर #दोस्त तो हमेशा दिल के करीब रहेंगे,
कभी मुस्कान तो कभी आँखों में पानी बनकर।

Dard Gairon Ko Sunane Ki Zaroorat Kya Hai,
Apne Saath Auron Ko Rulane Ki Zaroorat Kya Hai,
Waqt Yoonhi Kam Hai #Dosti Ke Liye,
Roothkar Waqt Ganvane Ki Zaroorat Kya Hai.

दर्द गैरों को सुनाने की ज़रूरत क्या है,
अपने साथ औरों को रुलाने की ज़रूरत क्या है,
वक्त यूँही कम है #दोस्ती के लिए,
रूठकर वक्त गंवाने की ज़रूरत क्या है।

Yah Safar #Dosti Ka Kabhi Khatm Na Hoga,
Doston Se Pyar Kabhi Kam Na Hoga,
Door Rahkar Bhi Jab Rahegi Mahek Iski,
Hamen Kabhi Bichhadne Ka #Gam Na Hoga.

यह सफ़र #दोस्ती का कभी ख़त्म न होगा,
दोस्तों से प्यार कभी कम न होगा,
दूर रहकर भी जब रहेगी महक इसकी,
हमें कभी बिछड़ने का #ग़म न होगा।

Leave a Comment