Dushman Talabgar Hain

Dushman Talabgar Hain

Mere Rone Se Nikalte Hain Aansu Jo Khoon Ke,
Mere Dushman Talabgar Hain Unko Bhi Peene Ke.

मेरे रोने से निकलते हैं आँसू जो खून के,
मेरे दुश्मन तलबगार हैं उनको भी पीने के। 

Leave a Comment