Ek Lamha Sabr Nahin

Ek Lamha Sabr Nahin

Dil Ki Dhadkano Ko Ek Lamha Sabr Nahin,
Sayad Usko Ab Meri Jara Bhi Kadar Nahin,
Har Safar Me Mera Kabhi Humsafar Tha Wo,
Ab Safar To Hai Par Woh Humsafar Nahi,

दिल की धड़कनो को एक लम्हा सब्र नहीं,
शायद उसको अब मेरी ज़रा भी कदर नहीं,
हर सफर में मेरा कभी हमसफ़र था वो,
अब सफर तो हैं मगर वो हमसफ़र नहीं।

Laakh Bandishein Laga Le Ye Duniya Hum Par,
Magar Hum Dil Par Qaabu Nahi Kar Payenge,
Woh Lamha Aakhiri Hoga Zindagi Ka Hamara,
Jis Din Hum Yaar Tujh Ko Bhool Jayenge.

लाख बंदिशें लगा ले ये दुनिया हम पर,
मगर हम दिल पर काबू नहीं कर पाएंगे,
वो लम्हा आखिरी होगा ज़िन्दगी का हमारा,
जिस दिन हम यार तुझको भूल जायेंगे।

Utna Haseen Phir Koyi Lamha Nahi Nahi Mila,
Tere Jaane Ke Baad Koyi Bhi Tujh Sa Nahi Mila,
Socha Karun Main Ek Din Khud Se Hi Guftgu,
Lekin Kabhi Main Khud Ko Tanha Nahi Mila.

उतना हसीन फिर कोई लम्हा नहीं मिला,
तेरे जाने के बाद कोई भी तुझ सा नहीं मिला,
सोचा करूँ मैं एक दिन खुद से ही गुफ्तगू,
लेकिन कभी मैं खुद को तन्हा नहीं मिला।

alone

Leave a Comment