Ek Suraj Tha

Ek Suraj Tha

Ek Suraj Tha Ke
Taaro Ke Gharane Se Uthha,
Aankh Hairan Hai
Kya Shakhs Zamane Se Uthha.

एक सूरज था के
तारो के घराने से उठा,
आँख हैरान है
क्या शख्स ज़माने से उठा।

Kisi Ko Be-Sabab Shoharat
Nahi Milati Hai Ai Vaahid,
Unhin Ke Naam Hain Duniya Me
JinKe Kaam Achchhe Hain.

किसी को बे-सबब शोहरत
नहीं मिलती है ऐ ‘वाहिद’,
उन्हीं के नाम हैं दुनिया में
जिनके काम अच्छे हैं।

Wo Afsaana Jise Anjaam Tak
Lana Na Ho Mumakin,
Use Ik Khoob-Soorat
Mod Dekar Chhodana Achchha.

वो अफ़्साना जिसे अंजाम तक
लाना न हो मुमकिन,
उसे इक ख़ूब-सूरत…
मोड़ देकर छोड़ना अच्छा।

Leave a Comment