Ek Umr Se Soye Hi Nahi

Ek Umr Se Soye Hi Nahi

Apni Palkon Ko Kabhi Hum Bhigoye Hi Nahi,
Wo Sochte Hain Ke Hum Kabhi Roye Hi Nahi,
Wo Puchhte Hain Ke Khwaabo Me Kise Dekhte Ho?
Aur Hum Hain Ke Ek Umr Se Soye Hi Nahi.

अपनी पलकों को कभी हम भिगोये ही नहीं,
वो सोचते हैं के हम कभी रोये ही नहीं,
वो पूछते हैं के ख्वाबो में किसे देखते हो?
और हम हैं के एक उम्र से सोये ही नहीं।

Leave a Comment