Faraz Dard Shayari, Aasan Nahi Aabad Karna

Faraz Dard Shayari, Aasan Nahi Aabad Karna

Aasan Nahi Aabad Karna Ghar Mohabbat Ka Faraaz,
Ye Unka Kaam Hai Jo Zindagi Barbaab Karte Hain.

आसन नहीं आबाद करना घर मोहब्बत का फ़राज़,
ये उनका काम है जो ज़िन्दगी बरबाद करते हैं।

Zikr Uss Ka Hi Sahi Bazm Me Baithe Ho Faraz,
Dard Kaisa Bhi Uthe Haath Na Dil Par Rakhna.

ज़िक्र उस का ही सही बज़्म में बैठे हो फ़राज़,
दर्द कैसा भी उठे हाथ न दिल पर रखना

Kaun Tolega Heeron Me Ab Hamare Aansoo Faraz?
Wo Jo Ek Dard Ka Taajir Tha Dukan Chhor Gaya.

कौन तोलेगा हीरों में अब तुम्हारे आंसू फ़राज़,
वो जो एक दर्द का ताजिर था दुकां छोड़ गया।

Kaun Kehta Hai Nafraton Me Dard Hai Faraz,
Kuchh Mohabbatein Bhi Badi AziyatNaak Hoti Hain.

कौन कहता है मोहब्बतों में दर्द है फ़राज़,
कुछ मोहब्बतें भो बड़ी अज़ीयतनाक होती हैं।

Ek Nafrat Hi Nahi Duniya Me Dard Ka Sabab Faraz,
Mohabbat Bhi Sakoon Walon Ko Badi Takleef Deti Hai.

एक नफ़रत ही नहीं दुनियां में दर्द का सबब फ़राज़,
मोहब्बत भी सकून वालों को बड़ी तकलीफ देती है।

Woh Zindagi Ho Ke Dunya Faraz Kya Kije,
Ke Jiss Se Ishq Karo Bewafa Nikalti Hai.

वो ज़िन्दगी हो के दुनिया फ़राज़ क्या कीजे,
के जिस से भी इश्क करो बेवफा निकलती है।

Leave a Comment