Fareb Shayari Collection

Fareb Shayari Collection

Duniya #Fareb Karke Hunaramand Ho Gayi,
Ham Aitbaar Karke #Gunahagaar Ho Gaye.

दुनिया #फ़रेब करके हुनरमंद हो गई,
हम ऐतबार करके #गुनाहगार हो गए।

Teri Kasmo Pe Kab Tak Mera Dil Fareb Khaye,
Koi Aisa Kar Bahana Meri Aas Toot Jaye.

तेरी कसमो पे कब तक मेरा दिल फ़रेब खाए,
कोई ऐसा कर बहाना मेरी आस टूट जाए।

Zakhm Laga Kar Uska Bhi Kuchh Haath Khula,
Main Bhi Dhokha Kha Kar Kuchh Chalaak Hua.

ज़ख़्म लगा कर उसका भी कुछ हाथ खुला,
मैं भी धोखा खा कर कुछ चालाक हुआ।

Dil Ke Dard Ko Dikhaana Bada Mushkil Hai,
Dhokha Kha Kar Batana Bada Mushkil Hai.

दिल के दर्द को दिखाना बड़ा मुश्किल है,
धोखा खा कर बताना बड़ा मुश्किल है।

Nahin Hota Aitbaar Phir Bhi Kar Hi Leta Hoon,
Jahan Itne Huye Hain Fareb Ek Aur Ho Jane Do.

नहीं होता ऐतबार फिर भी कर ही लेता हूँ,
जहाँ इतने हुए हैं फरेब एक और हो जाने दो।

Dhokhe Khate Rahe Ham Sambhlte Rahe Kadam,
Chalate Rahe Junoon Ka… Sahaara Liye Huye.

धोखे खाते रहे हम संभलते रहे कदम,
चलते रहे जुनूं का… सहारा लिये हुए।

Insan Jaan Ke Khata Hai Ishq Mein #Dhokhe
Khud-Farebi Hi Ishq Ka Sila Ho Jaise.

इन्सान जान के खाता है इश्क में #धोखे
ख़ुद-फ़रेबी ही इश्क का सिला हो जैसे।

Leave a Comment