Fir Bhi Afsos Hai

Fir Bhi Afsos Hai

Very Sad Afsos Shayari

Is Chaman Me Udasi Bani Rah Gai,
Tum Na Aaye, Tumhari Kami Rah Gai,
Hasrato Me Jiya Fir Bhi Afsos Hai,
Justju Duaon Ki Bachi Rah Gai,
Dil Jalane Se Fursat Kahan Thi Use,
Samma Jo Thi Bhujhi Wo Bujhi Rah Gayi,
Jo Mila Tha Basar Ke Liye Kam Na Tha,
Par Jarurat Nayi Kuchh Lagi Rah Gayi,
Pattharo Ke Dilon Me Nami Dekhiye,
Jo Ugi Ghas Thi Wo Hari Rah Gayi,
Jis Najar Ki Himayat Me Tum The Sada,
Wo Najar To Jhuki Ki Jhuki Rah Gayi,
Osh Ke Chand Katron Se Hota Bhi Kya,
Pyas Jasi Thi Baisi Hi Rah Gayi.

इस चमन में उदासी बनी रह गयी,
तुम न आये, तुम्हारी कमी रह गयी।
हसरतों में जिया फिर भी अफ़सोस है,
जुस्तजू दुआओं की बची रह गयी।
दिल जलाने से फुर्सत कहाँ थी उसे,
शम्मा जो थी बुझी वो बुझी रह गयी।
जो मिला था बसर के लिये कम न था,
पर ज़रूरत नयी कुछ लगी रह गयी।
पत्थरों के दिलों में नमी देखिये,
जो उगी घास थी वो हरी रह गयी।
जिस नज़र की हिमायत में तुम थे सदा,
वो नज़र तो झुकी की झुकी रह गयी।
ओस के चंद कतरों से होता भी क्या,
प्यास जैसी थी वैसी ही रह गयी।

Leave a Comment