Fisalne Ka Dar

Fisalne Ka Dar

Kahin Fisal Na Jao Jara Sambhal Ke Chalna,
Mausam Barish Ka Bhi Hai Aur Mohabbat Ka Bhi.

कहीं फिसल न जाओ जरा संभल के चलना,
मौसम बारिस का भी है और मोहब्बत का भी।

romantic couple

Barishon Mein Chalny Se Ik Bat Yad Ati Hai,
Fisalne Ke Dar Se Wo Haath Thaam Leta Tha.

बारिश में चलने से एक बात याद आती है,
फिसलने के डर से डर से वो हाथ थाम लेता था।

Tumhare Khayalo Me Chalte Chalte Kahin Fisal Na Jayun Main,
Apni Yaadon Ko Rok Le Ke Shahar Me Barish Ka Mausam Hai.

तुम्हारे ख्यालों में चलते चलते कहीं फिसल न जाऊं मैं,
अपनी यादों को रोक ले के शहर में बारिश का मौसम है।

Leave a Comment