Fursat Use Nahi

Fursat Use Nahi

Wo Kaise Laut Aaye Ke Fursat Use Nahi,
Duniya Samajh Rahi Hai Mohabbat Use Nahi,

Lagta Hai Aa Chuki Hai Kami UssKi Chah Me,
Kafi Dinon Se MujhSe Shikayat Use Nahi,

Dil Ki Zamin Usski Hai Banjar Isi Liye,
Jazbon Ki Barishon Ki Jo Aadat Use Nahi.

वो कैसे लौट आये के फुरसत उसे नहीं,
दुनिया समझ रही है मोहब्बत उसे नहीं।

लगता है आ चुकी है कमी उसकी चाह में,
काफी दिनों से मुझसे शिकायत उसे नहीं।

दिल की ज़मीन उसकी है बंजर इसी लिए,
जज्बों की बारिशों की जो आदत उसे नहीं।

Leave a Comment