Gam Ko Rooh Me Utar Lun

Gam Ko Rooh Me Utar Lun

Tere Har Gam Ko Rooh Me Utar Lun,
Zindagi Apni Teri Chahat Me Sanwar Lun,
Mulakaat Ho Tujhse Kuch Is Kadar Meri,
Saari Umr Bas Ek Mulakaat Me Gujar Lun.

तेरे हर ग़म को अपनी रूह में उतार लूँ,
ज़िन्दगी अपनी तेरी चाहत में संवार लूँ,
मुलाक़ात हो तुझसे कुछ इस तरह मेरी,
सारी उम्र बस एक मुलाक़ात में गुज़ार लूँ।

sad couple hug

Chandni Raat Me Barsat Buei Lagtti Hai,
Ghar Me Ho Llash To Barat Buri Lagti Hai,
Khushi Me Mere Dost Kuch Bhi Kah Lo,
Lekin Gam Me To Har Baat Buri Lagti Hai.

चाँदनी रात में बरसात बुरी लगती है,
घर में हो लाश तो बारात बुरी लगती है,
ख़ुशी में मेरे दोस्त कुछ भी कह दो,
लेकिन ग़म में तो हर बात बुरी लगती है।

Un Logo Ka Kya Hoga,
Jinko Meri Tarah Gam Ne Mara Hoga,
Kinare Par Khade Log Kya Jaane,
Doobne Wale Ne Kis Kis Ko Pukara Hoga.

उन लोगों का क्या हुआ होगा,
जिनको मेरी तरह ग़म ने मारा होगा,
किनारे पर खड़े लोग क्या जाने,
डूबने वाले ने किस-किस को पुकारा होगा।

Leave a Comment