Gam Tha Naya Naya

Gam Tha Naya Naya

Ab To Meri Aankh Me Ek Ashq Bhi Nahi,
Pehle Ki Baat Aur Thi Gam Tha Naya Naya.

अब तो मेरी आँख में एक अश्क भी नहीं,
पहले की बात और थी गम था नया नया।

Har Gam Ne Har Sitam Ne Naya Hausla Diya,
Mujhko Mitaane Walo Ne Mujhko Bana Diya.

हर गम ने हर सितम ने नया हौसला दिया,
मुझको मिटाने वालो ने मुझको बना दिया।

Apni Zindagi Me Mujh Ko Kareeb Samjhna,
Koi Gam Aaye To Us Gam Me Bhi Sareek Samjhna,
De Denge Muskurahat Aansuno Ke Badle,
Magr Hazaron Me Mujhe Thoda Ajeez Samajhna.

अपनी ज़िन्दगी में मुझ को करीब समझना,
कोई ग़म आये तो उस ग़म में भी शरीक समझना,
दे देंगे मुस्कुराहट आँसुओं के बदले,
मगर हज़ारों में मुझे थोड़ा अज़ीज़ समझना।

Leave a Comment