Garibi Janti Hai

Garibi Janti Hai

Apne Mehmaan Ko Palko Par Bitha Leti Hai,
Gareebi Janti Hai Ghar Me Bichone Kam Hain.

अपने मेहमान को पलकों पे बिठा लेती है,
गरीबी जानती है घर में बिछौने कम हैं।

Greebi Shayari - Gareebi Janti Hai

Jo Gareebi Me Ek Diya Bhi Na Jala Saka,
Ek Ameer Ka Patakha Uska Ghar Jala Gaya.

जो गरीबी में एक दिया भी न जला सका,
एक अमीर का पटाखा उसका घर जला गया।

Usne Yeh Sochkar Alavida Kah Diya,
Gareeb Log Hain, Muhabbat Ke Siva Kya Denge.

उसने यह सोचकर अलविदा कह दिया,
गरीब लोग हैं, मुहब्बत के सिवा क्या देँगे।

Main Kya Mahobbat Karun Kisi Se, Main To Gareeb Hun,
Log Aksar Bikte Hain, Aur Kharidna Mere Bas Mein Nahin.

मैं क्या महोब्बत करूं किसी से, मैं तो गरीब हूँ,
लोग अक्सर बिकते हैं, और खरीदना मेरे बस में नहीं।

Leave a Comment