Gham-e-Zindagi

Gham-e-Zindagi

Ai Gham-e-Zindagi Na Ho Naraz,
Mujhko Aadat Hai Muskurane Ki.

ऐ ग़म-ए-ज़िंदगी न हो नाराज़,
मुझको आदत है मुस्कुराने की।

Jara Muskurana Bhi Sikha De Ai Zindagi,
Rona To Paida Hote Hai Seekh Liya Tha.

ज़रा मुस्कुराना भी सीखा दे ऐ ज़िंदगी,
रोना तो पैदा होते ही सीख लिया था।

Zindagi Sayad Isi Ka Naam Hai,
Duriyan Majbooriyan Tanhaiyan.

ज़िन्दगी शायद इसी का नाम है,
दूरियां मज़बूरियां तन्हाईयाँ।

Kitni Sachchai Se Mujh Se Zindagi Ne Kah Diya,
Tu Nahin Mera To Koi Doosra Ho Jayega.

कितनी सच्चाई से मुझ से ज़िंदगी ने कह दिया,
तू नहीं मेरा तो कोई दूसरा हो जाएगा।

Leave a Comment