Gham Ka Ehsaas

Gham Ka Ehsaas

Mohabat Ek Dam Gham Ka Ehsaas Hone Nahin Deti,
Ye Titli Baithti Hai Jakhm Par Ahista Ahista.

मोहब्बत एक दम ग़म का एहसास होने नही देती,
ये तितली बैठती है ज़ख़्म पर आहिस्ता-आहिस्ता।

Leave a Comment