Ghar Jalta Raha

Ghar Jalta Raha

Dil Ameer Tha Magar Muqaddar Gareeb Tha,
Mil Kar Bichhadna To Humara Naseeb Tha,
Hum Chaah Kar Bhi Kuchh Kar Na Sake,
Ghar Jalta Raha Aur Samundar Qareeb Tha.

दिल अमीर था मगर मुक़द्दर गरीब था,
मिल कर बिछड़ना तो हमारा नसीब था,
हम चाह कर भी कुछ कर न सके,
घर जलता रहा और समुन्दर करीब था।

Phir Vahi Fasana Afsana Sunati Ho,
Dil Ke Paas Hun Kahkar Dil Jalati Ho,
Beqaraar Hai Aatish-E-Nazar Se Milne Ko,
To Phir Kyon Nahi Pyar Jatati Ho.

फिर वही फसाना अफ़साना सुनाती हो,
दिल के पास हूँ कहकर दिल जलाती हो,
बेक़रार है आतिश-ए-नज़र से मिलने को,
तो फिर क्यों नही प्यार जताती हो।

Uljhi Hui Shaam Ko Pane Ki Zid Na Karo,
Jo Apna Na Ho Use Apnane Ki Zid Na Karo,
Is Samandar Me Toofaan Bahut Aate Hain Sanam,
Iske Saahil Par Ghar Banane Ki Zid Na Karo.

उलझी हुई शाम को पाने की ज़िद न करो,
जो अपना ना हो उसे अपनाने की ज़िद न करो,
इस समंदर में तूफ़ान बहुत आते हैं सनम,
इसके साहिल पर घर बनाने की ज़िद न करो।

Leave a Comment