Gumraah To Wo Hain

Gumraah To Wo Hain

Manzil To Mil Hi Jayegi Bhatak Ke Hi Sahi,
Gumraah To Wo Hain Jo Ghar Se Nikle Hi Nahi.

मंज़िल तो मिल ही जायेगी भटक के ही सही,
गुमराह तो वो हैं जो घर से निकले ही नहीं।

Leave a Comment