Had e Shahar Se Nikali

Had e Shahar Se Nikali

Had e Shahar Se Nikali To Gaon Gaon Chali,
Kuchh Yaadein Mere Sang Paaon Paaon Chali,
Safar Jo Dhoop Ka Kiya To Tajurba Hua,
Wo Zindagi Hi Kya Jo Chhao Chhao Chali.

हद ए शहर से निकली तो गाओं गाओं चली,
कुछ यादें मेरे संग पांव पांव चली,
सफ़र जो धूप का किया तो तजुर्बा हुआ,
वो ज़िन्दगी ही क्या जो छाओ छाओ चली।

Safar Ki Had Hai Bahaan Tak Ki Kuchh Nishan Rahe,
Chale Chalo Jahan Tak Ye Aasmaan Rahe,
Ye Kya Uthaye Kadam Aur Aa Gayi Manjil,
Maza To Tab Hai Ke Pairon Me Kuchh Thakan Rahe.

सफ़र की हद है वहां तक की कुछ निशान रहे,
चले चलो जहाँ तक ये आसमान रहे,
ये क्या उठाये कदम और आ गयी मंजिल,
मज़ा तो तब है के पैरों में कुछ थकान रहे।

Jal Ko Barf Me Badalne Me Waqt Lagta Hai,
Sooraj Ko Nikalne Me Waqt Lagta Hai,
Kismat Ko To Ham Badal Nahi Sakte,
Lekin Apne Hausalo Se Kismat Badalne Me Waqt Lagta Hai.

जल को बर्फ़ में बदलने में वक्त लगता है,
सूरज को निकलने में वक्त लगता है,
किस्मत को तो हम बदल नही सकते,
लेकिन अपने हौसलो से किस्मत बदलने में वक्त लगता है।

Leave a Comment