Halki-Fulki Si Hai Zindagi

Halki-Fulki Si Hai Zindagi

Karne Lage Hisab -Ai-Zindagi To Ro Baithe,
Ginte Rahe Salon Ko Aur Lamhon Ko Kho Baithe.

करने लगे हिसाब -ऐ- जिन्दगी तो रो बैठे,
गिनते रहे सालों को और लम्हों को खो बैठे।

Jee Rahe Hain Teri Sharto Ke Mutaabiq-E-Zindagi,
Daur Aaega Kabhi, Hamari Farmaisho Ka Bhi.

जी रहे है तेरी शर्तो के मुताबिक़ ए जिंदगी,
दौर आएगा कभी, हमारी फरमाइशो का भी।

Halki-Fulki Si Hai Zindagi…
Bojh To Khwahishon Ka Hai.

हल्की-फुल्की सी है जिंदगी…
बोझ तो ख्वाहिशों का है।

Zindagi… Bus Itna De Do To Kaafi Hai
Sir Se Chadar Na Hate Paon Bhi Chadar Me Rahen.

ज़िन्दगी.. बस इतना अगर दे दो तो काफी है,
सिर से चादर ना हटे, पाँव भी चादर में रहें।

Leave a Comment