Hans Kar Kabool

Hans Kar Kabool

Hans Kar Kabool Kya Kar Li Sajayen Maine,
Jamane Ne Dastur Hi Bna Diya Har Ilzaam Mujh Par Madhne Ka.

हँस कर कबूल क्या कर ली सजाएँ मैंने,
ज़माने ने दस्तूर ही बना लिया हर इलज़ाम मुझ पर मढ़ने का।

Leave a Comment