Hansi Mein Chhupe Dard

Hansi Mein Chhupe Dard

Uski Hansi Mein Chhupe Dard Ko Mehsoos To Kar,
Wo To Yunhi Hans Hans Ke Khud Ko Saza Deta Hai.

उसकी हँसी में छुपे दर्द को महसूस तो कर,
वो तो यूँही हँस हँस के खुद को सजा देता है।

Tum Par Beetegi To Tum Bhi Jaan Jaoge Mohsin,
Koi Nazar Andaz Kare To Kitna Dard Hota Hai.

तुम पर बीतेगी तो तुम भी जान जाओगे मोहसिन,
कोई नज़र अंदाज़ करे तोह कितना दर्द होता है।

Raat Bhar Jalta Raha Ye Dil Usi Ki Yaad Mein,
Samajh Nhi Aata Dard Pyar Krne Se Hota Ha Yaad Karne Se.

रात भर जलता रहा यह दिल उसी की याद में,
समझ नही आता दर्द प्यार करने से होता है या याद करने से।

Kaun Kehta Hai Nafraton Mein Dard Hai Mohsin,
Kuch Mohabbatein Bhi Badi Dard Naak Hoti Hain.

कौन कहता है नफ़रतों में दर्द है मोहसिन,
कुछ मोहब्बतें भी बड़ी दर्द नाक होती है।

Leave a Comment