Har ilzaam Ka Haqdaar

Har ilzaam Ka Haqdaar

Har ilzaam Ka Haqdaar Wo Hame Bana Jate Hai,
Har Khata Ki Sazaa Wo Hame Suna Jate Hai,
Aur Hum Har Bar Khamosh Rah Jate Hai,
Kyun ki Wo Apne Hone Ka Haq Jata Jate Hai.

हर इल्ज़ाम का हकदार वो हमें बना जाते हैं,
हर खता की सजा वो हमें सुना जाते हैं,
और हम हर बार खामोश रह जाते हैं,
क्यों कि वो अपने होने का हक जता जाते हैं।

Leave a Comment