Har Meel Ke Patthar

Har Meel Ke Patthar

Har Meel Ke Patthar PeLikh Do Ye Ibaarat,
Manzil Nahi Milti Nakaam Iraadon Se.

हर मील के पत्थर पे लिख दो ये इबारत,
मंज़िल नहीं मिलती नाकाम इरादों से।

Lakshy Bhi Hai, Manzar Bhi Hai,
Chubhta Mushkilon Ka Khanzar Bhi Hai,
Pyas Bhi Hai, Aas Bhi Hai,
Khwabo Ka Uljha Ehsaas Bhi Hai.

Rahta Bhi Hai, Sahta Bhi Hai,
Bankar Dariya Sa Bahta Bhi Hai,
Pata Bhi Hai, Khota Bhi Hai,
Lipat Lipat Kar Rota Bhi Hai.

Thakta Bhi Hai, Chalta Bhi Hai,
Kagaz Sa Dukho Me Galta Bhi Hai,
Girta Bhi Hai, Sambhlta Bhi Hai.
Sapne Phir Naye Bunta Bhi Hai.

लक्ष्य भी है, मंज़र भी है,
चुभता मुश्किलों का खंज़र भी है,
प्यास भी है, आस भी है,
ख्वाबो का उलझा एहसास भी है।

रहता भी है, सहता भी है,
बनकर दरिया सा बहता भी है,
पाता भी है, खोता भी है,
लिपट लिपट कर रोता भी है।

थकता भी है, चलता भी है,
कागज़ सा दुखो में गलत भी है,
गिरता भी है, संभलता भी है।
सपने फिर नए बुनता भी है।

Leave a Comment