Haseen Hathon Se Mayyat

Haseen Hathon Se Mayyat

Gam e Hayaat Ka Jhagda Mita Raha Hai Koi,
Chale Aao Iss Duniya Se Ja Raha Hai Koi,
Azal Se Keh Do Ruk Jayee Do Ghadi,
Suna Hai Aane Ka Wada Nibha Raha Hai Koi,
Woh Iss Naaz Se Baithe Hain Laash Ke Pass,
Jaise Ruthe Huye Ko Manaa Raha Hai Koi,
Palat Kar Na Aa Jayein Phir Saansien,
Haseen Hathon Se Mayyat Saja Raha Hai Koi.

गम ए हयात का झगड़ा मिटा रहा है कोई,
चले आओ इस दुनिया से जा रहा है कोई,
अज़ल से कह दो रुक जाए दो घड़ी,
सुना है आने का वादा निभा रहा है कोई,
वोह इस नाज़ से बैठे हैं लास के पास,
जैसे रूठे हुए को मना रहा है कोई,
पलट कर न आ जायें फिर साँसे,
हसीन हाथो से मय्यत सजा रहा है कोई।

Leave a Comment