Hawa Ka Rukh To Batata Hun

Hawa Ka Rukh To Batata Hun

Motivational Lines

Tinka Hun To Kya Hua Bajood Hai Mera,
Ud-Ud Kar Hawa Ka Rukh To Batata Hun.

तिनका हूँ तो क्या हुआ, वजूद है मेरा,
उड़-उड़ कर हवा का रूख तो बताता हूँ।

Hawa Ka Rukh To Batata Hun - Motivational Shayari

Apni Roshni Ki Bulandiyon Par Kabhi Na Itrana,
Chiraag Sab Ke Bujhte Hain, Hawa Kisi Ki Nahin Hoti.

अपनी रौशनी की बुलन्दिओं पर कभी न इतराना,
चिराग सब के बुझते हैं, हवा किसी की नही होती।

Girkar Uthna Uthkar Chalna Yeh Kram Hai Sansar Ka,
Karamveer Ko Fark Nahi Padta Kisi Jeet Ya Haar Ka.

गिरकर उठना उठकर चलना यह क्रम है संसार का,
कर्मवीर को फ़र्क नहीं पड़ता किसी जीत या हार का।

Lakchya Mile Ya Na Mile, Ye To Kismat Ki Baat Hai,
Par Main Kosish Bhi Na Karun, Ye To Galat Baat Hai.

लक्ष्य मिले या ना मिले, ये तो किस्मत की बात है,
पर मैं कोशिश भी ना करूँ, ये तो ग़लत बात है।

Leave a Comment