Hazaron Khwahishen

Hazaron Khwahishen

Hazaron Khwahishen Aisi, Ki Har Khwaish Pe Rum Nikle,
Jee Bhar Ke Kabhi Na Pi Paya, Kyuki Jeb Me Paise Kam Nikle,

हज़ारों ख्वाहिशें ऐसी, कि हर ख्वाहिश पे Rum निकले,
जी भर के कभी ना पी पाया, क्योंकि जेब में पैसे कम निकले।

Funny Shayari - Hazaron Khwahisen

Arj Kiya Hai Chup-Chaap Chal Raha Tha Main Manjil Ki Or,
Fir Theke Par Najar Padi Aur Hum Gumrah Ho Gaye.

अर्ज़ किया है चुप-चाप चल रहा था मैं मंज़िल की और,
फिर ठेके पर नज़र पड़ी और हम गुमराह हो गए।

Ham To Nikle The Talas-e-Ishq Me,
Apni Tanhaiyon Se Lad Jayenge Ham,
Magar…
Garmi Bahut Thi, Bear Pee Ke Bapis Aa Gaye.

हम तो निकले थे तलाश-से-इश्क में,
अपनी तनहाईयों से लड़ कर,
मगर…
गर्मी बहुत थी, बियर पी के वापिस आ गए।

Leave a Comment