Hijr Ka Faisla

Hijr Ka Faisla

Mumkina Faislon Me Ek Hijr Ka Faisla Bhi Tha,
Hum Ne To Ek Baat Ki Us Ne Kamaal Kar Diya.

(Hijr – Separation)

मुमकिन फैसलों में एक हिज्र का फैसला भी था,
हम ने तो एक बात की उसने कमाल कर दिया।

Ab Bujha Do Ye Sisakte Huye Yaadon Ke Chiraag,
Inse Kab Hijr Ki Raaton Me Ujala Hoga.

अब बुझा दो ये सिसकते हुए यादों के चिराग,
इनसे कब हिज्र कि रातों में उजाला होगा।

Khuda Kare Ke Teri Umr Me Gine Jayein,
Wo Din Jo Humne Tere Hijr Me Gujaare Hain.

खुदा करे के तेरी उम्र में गिने जायें,
वो दिन जो हमने तेरे हिज्र में गुजरे हैं।

Thi Vasl Me Bhi Fikr-e-Judai Tamam Shab,
Wo Aaye To Neend Na Aayi Tamam Shab.

थी वस्ल में भी फ़िक्र-ए-जुदाई तमाम शब,
वो आए तो भी नींद न आई तमाम शब।

Leave a Comment