Hindi Sad Shayari, Berukhi Na Kiya Kar

Hindi Sad Shayari, Berukhi Na Kiya Kar

Bekhabar, Bevajah Berukhi Na Kiya Kar,
Koi Toot Jaata Hai Tera Lahaja Badalne Se.

बेखबर, बेवजह बेरुखी ना किया कर,
कोई टूट जाता है तेरा लहजा बदलने से।

Berukhi Na Kia Kar - Sad Shayari

Bikhar Jate Hain….. Sar Se Paanv Tak, Woh Log…
Jo Kisi Beparvah Se Be-Panah Ishq Karte Hain.

बिखर जाते हैं….. सर से पाँव तक, वो लोग…
जो किसी बेपरवाह से बे-पनाह इश्क करते है।

Bhar Jaenge Jakhm Bhi, Tum Kisi Se Jikr Na Karna,
Theek Hoon Mai… Tum Mere #Dard Ki #Fikr Na Karna.

भर जाएंगे जख्म भी, तुम किसी से जिक्र ना करना,
ठीक हूँ मै… तुम मेरे #दर्द की #फिक्र ना करना।

Main Bhi Kabhi Hansta Khelta Muskurata Tha,
Kal Ek Purani Tasbeer Mein Dekha Khud Ko.

मैं भी कभी हँसता खेलता मुस्कुराता था,
कल एक पुरानी तस्बीर में देखा खुद को।

Na Haath Thaam Sake Aur Na Pakad Sake Daman,
Bahut Hi Qareeb Se Guzar Kar Bichhad Gaya Koi.

न हाथ थाम सके और न पकड़ सके दामन,
बहुत ही क़रीब से गुज़र कर बिछड़ गया कोई।

Asal Mohabbat To Wo Pahli Hi Mohabbat Thi,
Uske Baad To Har Shakhs Mein, Sirf Usi Ko Dhoondha Hai.

असल मोहब्बत तो वो पहली ही मोहब्बत थी,
उ सके बाद तो हर शख्स में, सिर्फ उसी को ढूँढा है।

Leave a Comment