Humare Zikr Se Bhi Nafrat

Humare Zikr Se Bhi Nafrat

Humare Zikr Se Nafrat Shayari

Kabhi Usne Bhi Hume Chahat Ka Paigam Likha Tha,
Sab Kuchh Usne Apna Humare Naam Likha Tha,
Suna Hai Aaj Use Humare Zikr Se Bhi Nafrat Hai,
Jisne Kabhi Apne Dil Par Humara Naam Likha Tha.

कभी उसने भी हमे चाहत का पैगाम लिखा था,
सब कुछ उसने अपना हमारे नाम लिखा था,
सुना है आज उसे हमारे जिक्र से भी नफरत है,
जिसने कभी अपने दिल पर हमारा नाम लिखा था।

Leave a Comment