Hume Ishq Ka Shauk

Hume Ishq Ka Shauk

Tere Baad Kisi Ko Pyar Se Na Dekha Humne,
Hume Ishq Ka Shauk Hai Aawargi Ka Nahi.

तेरे बाद किसी को प्यार से ना देखा हमने,
हमें इश्क का शौक है आवारगी का नहीं।

Ye Ishq To Marz Hi Burhape Ka Hai Dosto,
Jawani Mein Fursat Hi Kahan Aawargi Se.

ये इश़्क तो मर्ज़ ही बुढ़ापे का है दोस्तो,
जवानी में फुर्सत ही कहाँ आवारगी से।

Aawargi Shayari - Fursat Kahan Aawargi Ki

Lutf To Deti Hai Ye Aawargi,
Fir Bhi Hume Laut Aana Chahiye.

लुत्फ़ तो देती है ये आवारगी
फिर भी हम को लौट जाना चाहिए।

Leave a Comment