Idhar Gesu Udhar

Idhar Gesu Udhar

Idhar Gesu Udhar Ru-e-Munawwar Hai Tasawur Me,
Kahan Ye Shaam Aayegi Kahan Aisi Sahar Hogi.

इधर गेसू उधर रु-ए-मुनव्वर है तसव्वुर में,
कहाँ ये शाम आएगी कहाँ  ऐसी सहर होगी।

Fir Fasa Zulfon Me Dil - Beautiful Shayari On Hair

Ai Junun Fir Mere Sar Par Bahi Shamat Aayi Hai,
Fir Fasa Julfo Me Dil Fir Bahi Aafat Aayi Hai.

ऐ जुनूँ फिर मेरे सर पर वही शामत आयी है, 
फिर फँसा ज़ुल्फ़ों में दिल फिर वही आफ़त आयी।

उनके गेसू सँवरते जाते हैं,
हादसे हैं गुज़रते जाते हैं।

Unke Gesu Sanvarte Jaate Hain,
Haadse Hain Guzarate Jaate Hain.

शुक्र है बाँध लिया अपने खुले बालों को
उसने शीराज़ा-ए-आलम को बिखरने न दिया।

Shukr Hai Baandh Leya Apne Khule Baalon Ko,
Usne Sheeraaza-E-Aalam Ko Bikhrane Na Diya.

Leave a Comment