Insaan Hi Nahin Milta

Insaan Hi Nahin Milta

Khuda To Milta Hai Par Insaan Hi Nahin Milta,
Ye Cheez Wo Hai Jo Dekhi Kahin Kahin Maine.

खुदा तो मिलता है पर इंसान ही नहीं मिलता,
ये चीज़ वो है जो देखी कहीं कहीं मैंने।

Innsaan Hi Nahi Milta - Insaniyat Shayari

Basti Me Apni Hindu Musalmaan Bas Gaye,
Insa Ki Shakl Dekhne Ko Ham Taras Gaye.

बस्ती में अपनी हिन्दू मुसलमां बस गए,
इंसा की शक्ल देखने को हम तरस गए।

Bekaso-Majaboor Insaan Ko Dua Deta Hun Main,
Vaar Karta Hai Koi To Muskara Deta Hun Main.

बेकसो-मजबूर इंसां को दुआ देता हूँ मैं,
वार करता है कोई तो मुस्करा देता हूँ मैं।

Kuchh Mere Baad Aur Bhi Aaenge Kaafile,
Kante Yah Raste Se Hata Lun To Chain Lun.

कुछ मेरे बाद और भी आएंगे काफिले,
कांटे यह रास्ते से हटा लूं तो चैन लूं।

Leave a Comment