Insaan Kitna Simat Gaya

Insaan Kitna Simat Gaya

Pahle Jamin Banti Phir Ghar Bhi Bant Gaya,
Insaan Apne Aap Me Kitna Simat Gaya.

पहले जमीन बंटी फिर घर भी बाँट गया,
इंसान अपने आप में कितना सिमट गया।

Chand Sikkon Me Bikta Hai Yeha Insaan Ka Zamir,
Kaun Kehta Hai Mere Mulk Me Mehgayi Bahut Hai.

चंद सिक्कों में बिकता है यहाँ इंसान का ज़मीर,
कौन कहता है मेरे मुल्क में महंगाई बहुत है।

Leave a Comment