Ishq Ki Chot Ka

Ishq Ki Chot Ka

Ishq Ki Chot Ka Kuchh Dil Pe Asar Ho To Sahi,
Dard Kam Ho Ya Jyada Ho Magar Ho To Sahi.

इश्क की चोट का कुछ दिल पर असर हो तो सही,
दर्द कम हो या ज्यदा हो मगर हो तो सही।

Kal Kya Khoob Ishq Se Maine Badla Liya,
Kagaz Par Likha Ishq Aur Use Zala Diya.

कल क्या खूब इश्क़ से मैने बदला लिया,
कागज़ पर लिखा इश्क़ और उसे ज़ला दिया।

Tum Haqeeqat-E-Ishq Ho Ya Fareb Meri Aankhon Ka,
Na Dil Se Nikalte Ho Na Meri Zindagi Mein Aate Ho.

तुम हक़ीक़त-ए-इश्क़ हो या फ़रेब मेरी आँखों का,
न दिल से निकलते हो न मेरी ज़िन्दगी में आते हो।

Bahut Muskura Rahe Ho Janaab,
Lagta Hai Tumhara Ishq Abhi Naya Naya Hai.

बहुत मुस्कुरा रहे हो जनाब,
लगता है तुम्हारा इश्क अभी नया नया है।

Leave a Comment