Ishq Ki Fitrat Hai

Ishq Ki Fitrat Hai

Tumhe Chahne Ki Wajah Kuchh Bhi Nahi,
Bas Ishq Ki Fitrat Hai Be-Wajah Hona.

तुम्हें चाहने की वजह कुछ भी नहीं,
बस इश्क की फितरत है बे-वजह होना।

Mat Kar Yun Bepanah Ishq, Ai Nadaan Dil Unse,
Bahut Jakhm Lagte Hain, Jab Unchai Se Girte Hain.

मत कर यूं बेपनाह इश्क, ऐ नादां दिल उनसे,
बहुत जख़्म लगते हैं, जब उँचाई से गिरते हैं।

Ajeeb Kahani Hai Ishq Aur Mohabbat Ki,
Use Paya Bhi Nahin Phir Bhi Khone Se Darta Hun.

अजीब कहानी है इश्क और मोहब्बत की,
उसे पाया भी नहीं फिर भी खोने से डरता हूँ।

Rooh Tak Neelaam Ho Jaati Hai Ishq Ke Bazaar Me,
Itna Aasaan Nahin Hota Kisi Ko Apna Bana Lena.

रूह तक नीलाम हो जाती है इश्क के बाज़ार में,
इतना आसान नहीं होता किसी को अपना बना लेना।

Leave a Comment