Ishq Ko Bhi Ishq Ho

Ishq Ko Bhi Ishq Ho

Ishq Ko Bhi Ishq Ho To
Fir Main Dekhu Ishq Ko Bhi,
Kaise Tadpe Kaise Roye,
Ishq Apne Ishq Me.

इश्क को भी इश्क हो तो
फिर मैं देखूं इश्क को भी,
कैसे तड़पे कैसे रोये,
इश्क अपने इश्क में।

Mohabbat Ka Rutba,
Tum Kya Jano Humdam,
Agar Tumhare Abaaz Me Dard Hai,
To Meri Aankhon Me Bhi Ishq Hai.

मोहब्बत का रुतबा,
तुम क्या जानो हमदम,
अगर तुम्हारे आवाज़ में दर्द है,
तो मेरी आँखों में भी इश्क़ है।

Yakeen Hi Uth Gaya,
Is Raah Ko Ab To Chhod De Gaalib.
Magar Ishq Me Rivaaj Ho Gaya Ki ,
Intazaar Kayamat Tak Hota Hai.

यकीन ही उठ गया,
इस राह को अब तो छोड़ दे ग़ालिब.
मगर इश्क में रिवाज हो गया कि ,
इन्तजार कयामत तक होता है।

Leave a Comment