Ishq Me Kya Gire

Ishq Me Kya Gire

Aukat Nahi Thi Zamane Ki
Jo Meri Keemat Laga Sake,
Kambakht Ishq Me Kya Gire
Muft Me Neelam Ho Gaye.

औकात नहीं थी ज़माने की
जो मेरी कीमत लगा सके,
कमबख्त इश्क में क्या गिरे
मुफ्त में नीलाम हो गए।

Ishq Me Kya Gire New Ishq Shayari Hindi

Ishq Aisa Karo Ki Dhadakan Me Bas Jaaye,
Saans Bhi Lo To Khushboo Usi Ki Aaye,
Pyar Ka Nasha Aankhon Me Bas Jaaye
Baat Kuchh Bhi Na Ho Par Naam Usi Ka Aaye.

इश्क़ ऐसा करो की धड़कन में बस जाये,
सांस भी लो तो खुशबू उसी की आऐ,
प्यार का नशा आँखों मे बस जाये
बात कुछ भी न हो पर नाम उसी का आऐ।

Kiya Ishq Ne Mera Haal Kuchh Aisa,
Na Apni Hai Khabar Na Dil Ka Pata Hai,
Kasoorbaar Tha Mera Ye Daur-E-Jabani,
Main Samajhta Raha Sanam Ki Khata Hai.

किया इश्क़ ने मेरा हाल कुछ ऐसा,
ना अपनी है खबर ना दिल का पता है,
कसूरवार था मेरा ये दौर-ए-जवानी,
मैं समझता रहा सनम की खता है।

Leave a Comment