Ishq Ne Kab Izaazat

Ishq Ne Kab Izaazat

Ishq Ne Kab Izaazat Li Hai Aashiqon Se,
Wo Hota Hai Aur Hokar Hi Rehta Hai.

इश्क ने कब इजाजत ली है आशिकों से,
वो होता है और होकर ही रहता है।

Yakeen Hai Mujh Par To Bepanah Ishq Kar,
Wafaen Meri Javaab Dengi, Tu Sawaal To Kar.

यकीन है मुझ पर तो बेपनाह इश्क कर,
वफाए मेरी जवाब देगी तू सवाल तो कर।

Dekh Kar Meri Taraf Usne To Muh Fer Liya,
Ishq Kar Ke Usne Mere Saath Kaisa Khel Khela.

देख कर मेरी तरफ़ उसने तो मुह फेर लिया,
इश्क़ कर के उसने मेरे साथ कैसा खेल खेला।

Suna Hai Dost Ishq Se Teri Bahut Banti Hai,
Ek Ehsaan Kar, Us Se Mera Kasoor To Poochh.

सुना है दोस्त इश्क से तेरी बहुत बनती है,
एक एहसान कर, उस से मेरा कसूर तो पूछ।

Leave a Comment