Ishq Teri Mehfil Me

Ishq Teri Mehfil Me

Ajeeb Andhera Hai Ai Ishq Teri Mehfil Me,
Kisi Ne Dil Bhi Jalaya To Roshni Na Hui.

अजीब अँधेरा है ऐ इश्क तेरी महफ़िल में,
किसी ने दिल भी जलाया तो रौशनी न हुई।

Inkaar Jaisi Lajjat Iqraar Me Kahan.
Badhta Raha Ishq Gaalib, Usaki Nahee-Nahee Se.

इंकार जैसी लज्जत इक़रार में कहां.
बढ़ता रहा इश्क ग़ालिब, उसकी नही-नही से।

Chadh Jaaye To Utarata Nahin,
Kamabakht Ye Ishq Bhee Gareeb Ke Qarz Jaisa Hai.

चढ़ जाये तो उतरता नहीं,
कमबख्त ये इश्क़ भी गरीब के क़र्ज़ जैसा है।

Wo Na Bhi Mile To Kya Huaa.?
Isha Hai… Havas Nahee.

वो ना भी मिले तो क्या हुवा.?
इश्क है… हवस नही।

Leave a Comment