Ispe Machle Hain Hum

Ispe Machle Hain Hum

Abhi Kamsin Hain Zidein Bhi Hain Niraali Unki,
Ispe Machle Hain Hum Dard-e-Jigar Dekhenge.

अभी कमसिन हैं जिदें भी हैं निराली उनकी,
इसपे मचले हैं हम दर्द-ए-जिगर देखेंगे।

Leave a Comment