Izhaar Kya Karen

Izhaar Kya Karen

Jakhm Itne Gahare Hain Izhaar Kya Karen,
Hum Khud Nishana Ban Gaye Baar Kya Karen,
Mar Gaye Hum Magar Khuli Rahi Ye Aankhein,
Isse Jyada Unka Intezaar Kya Karen.

ज़ख़्म इतने गहरे हैं इज़हार क्या करें,
हम खुद निशाना बन गए वार क्या करें,
मर गए हम मगर खुली रही ये आँखें,
इससे ज्यादा उनका इंतज़ार क्या करें।

Intezar Shayari, Intezar Karti Hain Aankhein

Leave a Comment