Jaag UthhTi Hai Kismat Meri

Jaag UthhTi Hai Kismat Meri

Roj Woh Khwab Mein Aate Hain Gale Milne Ko,
Main Jo Sota Hun Toh Jaag UthhTi Hai Kismat Meri.

रोज वो ख़्वाब में आते हैं गले मिलने को,
मैं जो सोता हूँ तो जाग उठती है किस्मत मेरी।

couple

Sharik-e-Bazm Hokar Yun Uchatkar Baithhna Tera,
Khatkti Hai Teri Maujoodgi Mein Bhi Kami Apni.

शरीक-ए-बज्म होकर यूँ उचटकर बैठना तेरा,
खटकती है तेरी मौजूदगी में भी कमी अपनी।

Dil Hai Kadamon Pe Kisi Ke, Sar Jhuka Ho Ya Na Ho,
Bandagi To Apni Fitrat Hai, Khuda Ho Ya Tu Ho.

दिल है कदमों पे किसी के, सर झुका हो या न हो,
बंदगी तो अपनी फ़ितरत है, ख़ुदा हो या तू हो।

Izhar-e-Tamanna Hi Tauheen-e-Tamanna Hai,
Tum Khud Hi Samajh Jaao Main Naam Nahi Lunga.

इज़हार-ए-तमन्ना ही तौहीन-ए-तमन्ना है,
तुम खुद ही समझ जाओ मैं नाम नहीं लूँगा।

Leave a Comment